अपने मित्र के पास सांत्वना पत्र

 अपने मित्र के पास सांत्वना पत्र
                                                             

नाम - नितीश -कुमार 
घर -  हसौली 
डाकघर - कुंडा 
जिला - औरंगाबाद 
               
   प्रिय  मित्र ,
                   सुप्रेम  नमस्कार 
मै  यहाँ ईश्वर  की कृपा से कुसलप्रुवक  हूँ।  तुम्हारा पत्र हस्तगत हुआ।   यह पत्र पढ़कर सभी समाचार से अवगत हुआ यह जानकर काफी दुख हुआ की तुम मैट्रिक की परीक्षा में अनुत्रिण  रहे। 
मित्र, 
         तुम कभी अपनी असफलता को देखकर हिम्मत नहीं खोना।  हिम्मत धैर्य  से रहना।  अपनी पढाई  को जारी रखना।  संस्कृत  और गणित विषय की पुनः तैयारी करो  क्योकि दोनों विषय में कम अंक प्राप्त हुए है। यदि मेरा आवश्यकता है तो मै भी तुम्हारी मदद करुगा।  मेहनत करने वाले की सफलता पैर चूमती हो। आशा ही नहीं पूर्ण वविश्वास  है  की  तुम मेहनत के द्वारा प्रथम श्रेणी में सफल रहोगे।  

तुम्हारा मित्र - उत्तम कुमार 
    

Post a comment

0 Comments