इंटरनेट क्या है।( what is internet) और इसका मालिक कौन है।

 इंटरनेट क्या है( what is internet) और इसका मालिक कौन है। इंटरनेट एक सुचना तकनिकी है। जो सबसे आधुनिक प्रणाली है। इंटरनेट के माध्यम  से लाखो हजारो कंप्यूटर को एक साथ जोड़ा गया है। कंप्यूटर को टेलीफोन लाइन दवरा इंटरनेट जोड़ा गया है। इसके अतरिक्त हमारे बहुत से चीजे है जिसके जरिये हम कंप्यूटर  को इंटरनेट से जोड़ सकते है। इंटरनेट किसी एक कंपनी या किसी एक सरकार का नहीं है। इंटरनेट में एक सर्वर होता है। जो अलग अलग कंपनी की अपनी प्राइवेट सर्वर होती है। कुछ प्रचलित इंटरनेट सेवावे जो है।
What is internet

,world wide web ये सूचना या जानकारी प्राप्त करने के लिए होता है। इंटरनेट को हमलोग विश्वव्यापी विख्यात का माध्यम कह सकते है ,क्युकी इंटरनेट से हम बहुत कुछ कर सकते है। आज हम वर्तमान में हर चीज इंटरनेट की मदद से ही करते है। जैसे online shopping , यहाँ तक खाना भी माँगा रहे इंटरनेट के माध्यम से आज वर्तमान हर चीज सिर्फ इंटरनेट से ही किया जा रहा है। इंटरनेट आज वर्तमान में सबसे सस्ता साधन है क्युकी आज हम एक मिनट में सुचना को घर बैठे एक क्लिक में किसी भी सुचना को कही भी पंहुचा सकते थे।

 पहले सुचना पहुंचने के लिए हमें वहा जाना पड़ता था। और समय भी अधिक लगती थी। आज हमारे  पास इंटरनेट है। हम सिर्फ एक सेकंड में किसी भी सुचना को कही भी पंहुचा सकते है। इंटरनेट हम मनुष्य का विकाश का सबसे  बड़ा साधन है। इंटरनेट की मदद से ही हम मनुषयो को इतना जल्दी विकाश की और बढ़ चुके है। मनो तो वर्तमान में इंटरनेट के बिना कोई भी चीज संभव नहीं है। 

इंटरनेट कलाइंट सर्वर पर  आधारित है। आप अपनी कंप्यूटर या मोबाइल में जो भी सुचना पढ़ रहे है। उसे हम क्लाइंट सर्वर कहते है। जो इंटरनेट में एक सर्वर में स्टोर हो जाता है। आपके मन में सवाल आ रहा होगा की क्लाइंट सर्वर आक्रिटेक्चर क्या है तो चलिए जानते है। 

इंटरनेट कलाइंट सर्वर आर्किटेक्चर क्या है। 

कलाइंट सर्वर आर्किटेक्चर एक नेटवर्क है जो आपकी सारि सूचनाओं को होस्ट करके के रखता है। इस प्रकार के क्लाइंट सर्वर में एक ही होस्ट से धरो सरे कंप्यूटर एक साथ जुड़े होते है। 
क्लाइंट सर्वर आर्किटेक्चर को नेटवर्किंग कंप्यूटर मॉडल सर्वर कलाइंट के रूप में भी जाना जाता है। क्युकी सभी इंटरनेट के सेवावे नेटवर्क पे वितरित किया जाता है। कलाइंट सर्वर वर्कस्टेशन है। जो हम अपने मोबाइल में जो भी अप्पीलिकेशन चलाते है उसे हम कलाइंट सर्वर वर्कस्टेशन पर ही चलते है। कलाइंट सर्वर के संसाधनों पर भरोसा करता है। जैसे - फाइल , पोसस्सिंग पावर आदि क्युकी हम जो भी इंटरनेट पे कोई भी सुचना डालते है।

What is internet


 वह क्लाइंट सर्वर पर ही स्टोर रहता है। हम अपने फेसबुक पे प्रतिदिन हजोरो लाखो ,करोड़ लोग अपनी फोटो शेयर करते है। कभी आपने सोचा है। की वह फोटो कहा स्टोर होता है। वह सारि फोटो होस्टिंग के सर्वर पर स्टोर हो जाता है। जिसे कलाइंट सर्वर आर्किटेक्चर कहते है। जहा कंप्यूटर संख्या अधिक होती है वह पर क्लाइंट सर्वर आर्किटेक्चर को तैयार किया गया है। बहुत सरे कंप्यूटर नेटवर्क एक  साथ जोड़ दिया गया।  इनमे से किसी एक कंप्यूटर एक  को worksation बना दिया है। सर्वर पे सभी कंप्यूटर फाइल सेव है। जो cilent server मॉडल कहा जाता है। इस मॉडल एक से अधिक क्लाइंट होती है। और इसमें एक सर्वर होता है। 

कलाइंट सर्वर की प्रकिरिया 

कलाइंट सर्वर एक सिस्टम प्रकिरिया है। जो किसी सिस्टम को एक्सेस करता है। कलाइंट एक ऐसी सर्वर पर्किर्या है जो सन्देश भेजता है। और सर्वर उस पर काम करता है। कलाइंट सर्वर प्रकिरिया आमतौर पर यूजर के इंटरफ़ेस को हिसे का प्रबंध करता है। जो यूजर को इंटरफ़ेस के आम तौर पर आधारित होता है। कलिएंट सर्वर एक ऐसी प्रकिरिया है जो सथनिया संसाधनों का प्रबंध करता है। 

सर्वर की प्रकिरिया 

कलाइंट सर्वर आर्किटेक्चर में , सर्वर प्रोसेस एक ऐसा प्रकिरिया है। जो कलाइंट द्वारा रिक्सेट किये गए कार्य को पूरा करता है। सर्वर पर आधारित नेटवर्क पर भी दूसरी मशीन पर चलता है। यह सर्वर होस्ट सर्वर या नेतवर सर्वर फाइल कहलाता है। सर्वर प्रक्रिया एक सॉफ्टवेयर इंजन रूप  कार्य करता है। जो सेयर संसाधनों और डटबसे को स्टोर करके रखता है। 

इंटरनेट का इतिहास (History of internet)

इंटरनेट का प्रयोग सबसे पहले अमेरिका के सेना के लिए प्रोयग किया गया था। 1969 में अर्पानेट नेटवर्क बनाया गया जो बहुत सारि कंप्यूटर को जोड़ कर बांया गया था। तभी जाकर इंटरनेट का सुरवात सही तरीका से हो गया था। 1972 कंप्यूटर को जोड़ने की संख्या 37 हो गयी थी। 1973 में लोग इसका पूरा विस्तार करने लगे प्रचार करने लगे की हम ने इंटरनेट को बना लिया था। तब सिर्फ इंटरनेट  का प्रयोग इंग्लैंड तक ही था। यह इंटरनेट का प्रयोग सामान लोगो को के निषेध किया गया था। क्युकी इंटरनेट का प्रयोग  समान लोग नहीं कर सकते थे।

 1974 में इसे समान लोगो को प्रयोग करने के लिए आज्ञा दे दिया गया जिसे टेलनेट नाम से जाना गया। फिर जाकर लोगो ने सोचा क्यों न हमलोग इंटरनेट को इस्तमाल  करने के लिए नए नियम बनाये तब जाकर। 1982 में नेटवर्क के लिए समान नियम बनाय गए जिसे प्रोटोकॉल कहा जाने लगा। फिर अर्पानेट कंप्यूटर सिस्टम को हटा दिया गया। 
वर्तमान में इंटरनेट लाखो करोड़ आदमी जुड़े हुआ है। VSNL विदेश संचार निगम लिमिटेड भारत के लिए इंटरनेट की सेवा प्रदान करती है। 

इंटरनेट की फयदा (Advantage of internet 

ऑनलाइन बिल्स पे (online Bills pe )

इंटरनेट की मदद से  हम बड़ी आसानी से अपना बिल्स भुक्तान कर सकते है। जैसे DTH rechare ,  बिजली बिल ,मोबाइल रिचार्ज , ऑनलाइन शॉपिंग हम घर बैठे अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड , नेट बैंकिंग के जरिये सभी प्रकार का बिल भुगतान कर सकते है। 

सुचना भेजना और प्राप्त करना (Send and recieve information )

हम इंटरनेट की मदद से किसी भी प्रकार का सुचना अपने मोबाइल से कही भी भेज सकते है। और प्राप्त कर सकते है। हम अपनी सुचना ईमेल द्वारा भेज सकते है ,और sms ,voice कॉल आदि करके हम अपना सूचना को शेयर कर  सकते है। 

 ऑनलाइन ऑफिस (online office )

कुछ बड़ी कंपनी अपनी कार्य करने के ऑफिस का सेवा प्रदान करते है। जिनमे लाखो कर्मचारी एक ऑनलाइन कंप्यूटर से काम करता है। 

ऑनलाइन शॉपिंग (online shopping )

हम अपने घर बैठे ही। इंटरनेट  के माध्यम हम शॉपपिंग कर सकते है। आप अपना ऑनलाइन शॉपिंग किसी वेबसइट पे जाकर पसंद करके आराम से खरीद सकते है। और तो और ऑनलाइन हम अपने परवर और रिस्तेदारो को ऑनलाइन गिफ्ट भी  भेज सकते है।

What is internet


व्यापर का बढ़वा (Business Promotion )

हमलोग सभी जानते है की घर -घर में इंटरनेट है। आज के समय में कोई ऐसा व्यक्ति नहीं है जो इंटरनेट का प्रयोग नहीं करता होगा। आप अपनी व्यापर को इंटरनेट के माध्यम से बहुत आगे ले जा सकते है। विसव की सभी बड़ी कंपनी अपनी व्यापर को आगे ले जाने के लिए इंटरनेट का सहारा ले रही है। विसव की सारि कंपनी अपना ऑनलाइन advertise ,affiliate marketing के जरिये अपना प्रचार वेबसाइट के जरिये कर रही है। और अपनी व्यापर को बढ़वा दे रही है। 

फ्रीलांसिंग (freelancing )

धीरे -धीरे फ्रीलांसिंग बहुत जायदा बढ़ रही है। फ्रीलांसिंग का अर्थ होता है अपने कौशल को प्रकट करना जैसे। 
वेबसाइट बनकर ,एफिलिएट मार्केटिंग ,यूट्यूब पे विडिओ अपलोड करके ,ऑनलाइन सर्वे करके घर बैठे ही पैसे कमा रहे है। और विभिन्न अन्य तरके से online earning कर रहे है। 

ऑनलाइन नौकरी की आवेदन एवं जानकारी (Job detials and appilication  )

अब आप नौकरी की जानकारी घर बैठे आराम से  प्राप्त कर सकते है। किसी नौकरी वाला वेबसाइट पे जाकर उस पर सुचना ले सकते है। नौकरी के आवेदन कर सकते है। 

मनोरंजन (entertainment )

इस इंटरनेट के माध्यम से हम घर बैठे ऑनलाइन गाने ,फिल्म ,सुन सकते है। और तो और हम अपना मनोरंजन के लिए सोसाइल मीडिया के साइड पे जाकर अपने दोस्तों के साथ चाट कर सकते है। घर बैठे है किसी भी मूवी को देख सकते है। 

इंटनेट की हनिया (Disadvantage Of internet )

समय की बर्बादी (waste of Time )

इंटरनेट के आ जाने से हम अपना सारा समय  इंटरनेट पे ही बिता देते है। जो वयक्ति इंटरनेट का उपयोग सुचना प्रदान के लिए करता है। या फिर वह ऑफिस का वर्क करता है उसके लिए इंटरनेट  लाभदायक है। और हमें इंटरनेट का समय से ही करना चाहिए। 


इंटरनेट फ्री में उपयोग के  लिए नहीं है। ( internet is not free use )

इंटरनेट हम फ्री में उपयोग नहीं कर सकते है। इसके लिए हमें कंपनी चार्ज देने पड़ते है। अगर आपको इंटरनेट की जरुरत नहीं है तो आप  इंटरनेट प्रोयग नहीं भी कर  सकते है। 


इंटरनेट का लत और स्वस्थ प्रभाव (Internet use and Health effects )

इंटरनेट के उपयोग  करने से हमारे स्वस्थ पर बहुत ही गलत प्रभाव पड़ता है। कुछ लोग तो इंटरनेट के बिना न खाते है न पिटे है। कुछ लोग अपना सारा दिन इंटरनेट में ही बिता देते है। क्युकी इंटरनेट का उन्हें लत लग जाता है। कोई भी वयक्ति अगर कोई चीज का लत लग जाता है तो वह जल्दी छूटता नहीं है। इंटरनेट के उपयोग से हमरे , आखो में दर्द , कमर दर्द , मानसिक तनाव , वजन बढ़ना , गर्दन में दर्द , पैरो और हाथो में दर्द आदि इंटरनेट के प्रयोग करने से होता है। 

Post a comment

1 Comments